Home बिहार खानपुर के विभिन्न गांव में मीजल्स यानी कि चेचक 80 के संख्या...

खानपुर के विभिन्न गांव में मीजल्स यानी कि चेचक 80 के संख्या में मरीज मिले

65
0

समस्तीपुर/खानपुर प्रखंड के खानपुर दक्षिणी पंचायत हसनपुर पंचायत नाथू द्वारा पंचायत के कई वार्डों में मीजल्स यानी कि चेचक का आउटब्रेक हो गया है। खानपुर प्रखंड के अलग-अलग पंचायत से रिपोर्ट मिलने के आधार पर तकरीबन अभी तक 80 मरीज मिल चुके हैं। जिनकी उम्र 1 साल से लेकर 35 साल तक है ।इसमें अधिकांश मरीज बच्चे हैं या किशोर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन कि सीएमओ डॉक्टर शिमला और सिविल सर्जन समस्तीपुर डॉक्टर एसके चौधरी तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खानपुर के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ राणा नितेश कुमार सिंह सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी ऋषि रंजन और सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी राजेंद्र शर्मा तथा पीड़ित पंचायत के स्वास्थ्य उपकेंद्र की वरिष्ठ एएनएम श्रीमती मंजू कुमारी श्रीमती सुरभि कुमारी के साथ आशा फैसिलिटेटर अभज या शर्मिला भारती और आशा सोनी कुमारी सुशीला कुमारी रंजू कुमारी रिंकू कुमारी संगीता कुमारी ने सघन जांच अभियान चलाते हुए डोर टू डोर हाउस तो हाउस सर्च अभियान चलाया।

जांच टीम के साथ जांच करते सिविल सर्जन

जिसमें खानपुर दक्षिणी पंचायत स्थित वार्ड चार में राजकीय प्राथमिक विद्यालय महतो टोल ,नाथद्वारा में राजकीय प्राथमिक विद्यालय और राजकीय उच्च विद्यालय गांव बसंतपुर वार्ड नं 11 मैं घर घर जाकर इनफेक्टेड एवं बीमार बच्चों एवं वयस्कों को दवा भी दी गई। और विटामिन ए की खुराक भी पिलाई गई। सिविल सर्जन डॉक्टर एसके चौधरी के नेतृत्व में जांच टीम ने रेंडम सेंपलिंग भी किया। जिसकी रिपोर्ट आना अभी बाकी है। लेकिन जितने बड़े पैमाने पर मरीज मिले हैं ।यह एक गंभीर चिंता का विषय है ।इसके लिए साफ सफाई और हाइजीनिक कंडीशन भी जिम्मेदार है ।खासकर के वैसी जगह पर मरीजों की बहुतायत मिली है। जहां गंदगी बहुत ज्यादा है ।और यह भी पता चला है कि इनफेक्टेड बच्चे कई दिनों से स्नान नहीं करते थे।और यह बीमारी इनफेक्टेड व्यक्ति के कपड़ों का इस्तेमाल करने से उसके घाव के पानी के लग जाने से एवं अन्य खांसी सर्दी जुकाम से फैलने वाले इंफेक्शन के साथ-साथ फैलती है। डॉक्टर राणा नितेश कुमार सिंह ने सभी जगह ऐलान कराया कि जिन बच्चों में या बुजुर्गों में ऐसे लक्षण पाए जा रहे हैं ।उनके कपड़े उनके बिस्तर उनका रहन-सहन परिवार के अन्य लोगों से अलग करके रखा जाए, और साफ सफाई का खास ख्याल रखा जाए। विश्व स्वास्थ्य संगठन की पदाधिकारी डॉक्टर शिमला और सिविल सर्जन समस्तीपुर डॉ एस के चौधरी ने संयुक्त रूप से लोगों को साफ सफाई के साथ रहने और घर में ही आराम करने की सलाह दी ।और उनकी देखभाल के लिए प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ राणा नितेश कुमार सिंह को विशेष निर्देश दिए गए हैं ।प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी खानपुर डॉक्टर राणा नितेश कुमार सिंह अपनी टीम के साथ सभी क्षेत्रों का दौर लगातार आज तीसरे दिन भी करते दिखे ।जहां नाथू द्वारा में करीब 40 मैरिज चिन्हित किए गए ।जिनके बीच पंचायती राज भवन नाथू द्वारा पर चलाए जा रहे। स्वास्थ्य उप केंद्र और वैलनेस सेंटर पर डॉक्टर राणा नितेश कुमार सिंह और विश्व स्वास्थ्य संगठन की डॉक्टर शिमला की मौजूदगी में विश्व स्वास्थ्य संगठन के मॉनिटर प्रवीण कुमार आफताब के साथ-साथ सामुदायिक स्वास्थ्य अधिकारी ऋषि रंजन और एएनएम सुरभि कुमारी ने मरीज के बीच अमाक्सीसिलिन 375 एमजी पेरासिटामोल के साथ-साथ ऑ आर एस वितरित किया। और विटामिन ए की खुराक सभी मरीजों को पिलाई गई ।जिसे 24 घंटे के बाद दोहराया जाना है।
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खानपुर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ राणा नितेश कुमार सिंह ने बताया की सैंपल की रिपोर्ट आ जाने के बाद इस क्षेत्र में अगर मेजर बीमारी या रूबेला इस्टैबलिश्ड होती है तो इस परिस्थिति में सघन अभियान चलाकर डोर टू डोर कैंपेन चलकर इस बीमारी के रोकथाम का वैक्सीनेशन करना जरूरी होगा। वैसे भी नियमित टीकाकरण के सत्रों में मीजल्स और रूबेला के वैक्सीन दिए जाते हैं।

क्षेत्र भ्रमण के दौरान ही डाक्टर राणा नितेश कुमार सिंह ने साफ सफाई के संबंध में भी लोगों को जागरूक किया। और ही साथ गर्मी के ऋतु में चमकी बुखार जैसे संभावित बीमारी के खतरे से लोगों को आगाह किया और उन्हें जागरुक करते हुए उन्होंने उन्हें सलाह दी कि किसी भी बच्चे को रात में बिना खाना खिलाए नहीं सुलाना है अगर बच्चा सो भी जाता है तो उसे जगा कर खाना खिलाना है और सुबह स्कूल जाने के पहले भी बच्चे को खाना खिला कर ही स्कूल भेजना है स्कूल में भी समय से भोजन करने की सलाह उन्होंने बच्चों को भी और उनके माता-पिता को भी दी दोपहर की गर्मी में बच्चे गिरे हुए फल खाकर बीमार ना पड़े इसकी भी सलाह देते हुए उन्होंने कहा कि अगर इस परिस्थिति में भी किसी बच्चे को बुखार या चमकी की शिकायत होती है तो तुरंत ही स्वास्थ्य उप केंद्र स्वास्थ्य केंद्र से संपर्क स्थापित किया जाए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here